Spirituality
Spirituality

Spirituality

73 Members
2 yrs ·Translate

गायत्री मंत्र में क्या खास शक्ति है?
इस चित्र से आपको यह तो समझ आ गया होगा की गायत्री मंत्र से शरीर के कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर कम्पन व असर होता है।
चलो सबसे पहले हम समझते है कोई मंत्र काम केसे करता है, वास्तव में मंत्र के सही और सटीक उच्चारण से वह कार्य करता है, जब हम कोई मंत्र बोलते है वह ध्वनि हमारे शरीर के अलग अलग भाग से उत्पन्न होती है व अलग अलग भाग को प्रभावित करती है। उदाहरण के तौर पर जब आप प्रणव यानी कि ॐ का उच्चारण करते है तो वह भी अलग अलग भाग से उत्पन्न हुआ प्रतीत होगा, तो वैसे ही इस चित्र के अनुसार गायत्री मंत्र भी शरीर के अलग अलग बिंदुओ को प्रभावित करता है।
दूसरी बात गायत्री मंत्र क्या है, यह जानना जरूरी है, यह वास्तव में सविता देवता का मंत्र है, मतलब इसकी ऊर्जा का संबंध सविता देवता से है, सविता देवता को ही सूर्य समझिए, सूर्य की शक्ति को सविता कहा गया है। तो जो कहते है की गायत्री मंत्र से कोई असर नहीं हुआ या ना कुछ खास महसूस हुआ तो उन्हें ये जान ना जरूरी है कि इसका जप कब और केसे करे।
गायत्री मंत्र का जप दिन में होने वाली तीनों में से किसी भी संध्या के समय किया का सकता है, मतलब सवेरे, दोपहर या शाम को, वैसे तो आप दिन में कभी भी जप कर सकते है पर तब सूर्य का प्रकाश होना चाहिए और वह प्रकाश आपके शरीर को स्पर्श भी कर रहा हो, पर आपको रोज एक ही समय एक निश्चित मात्रा में जप करना चाहिए, इस लिए संध्या काल उचित होगा क्युकी तब तो आपको सूर्य का प्रकाश देख कर भी जप शुरू करने का स्मरण हो जाएगा। और एक बात गायत्री मंत्र के प्रभाव से मनुष्य, काम, क्रोध, मद, दंभ, दुर्भाव, लोभ, द्वेष, अहंकार से दूर हो सकता है। और इनसे दूर होने पर ही आध्यात्मिक उन्नति संभव है, तो जो अपनी आध्यात्मिक उन्नति चाहते है वे इसका जप अवश्य करे।
आपको यह भी पता होगा कि गायत्री मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र को हिन्दू धर्म में बहुत प्रभाव शाली माना गया है, ऐसा इसीलिए है क्युकी यह दोनों मंत्र आपकी आध्यात्मिक उन्नति में बहुत बड़े सहायक सिद्ध होते है।
राम और रावण में भी यही अंतर था, रावण बहुत शक्तिशाली होने साथ ही अहंकारी भी था क्युकी वह गायत्री मंत्र का जप नहीं करता था तो वह अपने अहंकार पर विजय नहीं पा सका, जबकि श्री राम गायत्री मंत्र के जप के प्रभाव को जानकर उसका जाप करते थे और सरल स्वभाव के स्वामी थे।
#ayurvedicaushadi #ayurveda #ayurvedalifestyle #ayurvedicmedicine #ayurvedic #ayurvedicdoctor #health #healthylifestyle #healthtips #herbal

image

image
2 yrs ·Translate

केरल के मुझाकुन्नू स्थान पर चमत्कारिक मृदंग शेलेश्वरी देवी अम्मा का मंदिर है! देवी की मूर्ति की तस्कर बाजार मै कीमत लगभग 1.5 करोड़ बतायी जाती है और चार बार चोरौ द्वारा असफल कोशिशौ के वावजूद वहाँ कोई सिक्युरिटी व्यवस्था भी नही है।
मूर्ति चोर जब भी मूर्ति को चुराके ले गए पर कुछ दूर जाकर छोड़ गए और उन्होंने स्वयं पुलिस को फोन करके बताया कि मूर्ति कहां पर है?
इस राज को जानने के लिए अंत में पुलिस ने कोशिश की तो पता चला कि उस मूर्ति को पुजारी के अलावा यदि अन्य कोई भी छूता था तो उसे दिशा भ्रम हो जाता था,
उसको कोई रास्ता नही दिखाई देता था कि किधर जाना है। चोरों के साथ यही होता था।।
चुराकर भागते थे तो कुछ दूर जाकर उनको उनको किधर जाना है,यह भूल जाते और डर के कारण रास्ते में छोड़ जाते।

image
2 yrs ·Translate

“नर्मदा नदी के हर पत्थर में है शिव, आखिर क्यों ?”
नर्मदेश्वर शिवलिंग के सम्बन्ध में एक धार्मिक कथा है –भारतवर्ष में गंगा, यमुना, नर्मदा और सरस्वती ये चार नदियां सर्वश्रेष्ठ हैं। इनमें भी इस भूमण्डल पर गंगा की समता करने वाली कोई नदी नहीं है। प्राचीनकाल में नर्मदा नदी ने बहुत वर्षों तक तपस्या करके ब्रह्माजी को प्रसन्न किया। प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने वर मांगने को कहा। तब नर्मदाजी ने कहा–’ब्रह्मन्! यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मुझे गंगाजी के समान कर दीजिए।’ब्रह्माजी ने मुस्कराते हुए कहा–’यदि कोई दूसरा देवता भगवान शिव की बराबरी कर ले, कोई दूसरा पुरुष भगवान विष्णु के समान हो जाए, कोई दूसरी नारी पार्वतीजी की समानता कर ले और कोई दूसरी नगरी काशीपुरी की बराबरी कर सके तो कोई दूसरी नदी भी गंगा के समान हो सकती है। ब्रह्माजी की बात सुनकर नर्मदा उनके वरदान का त्याग करके काशी चली गयीं और वहां पिलपिलातीर्थ में शिवलिंग की स्थापना करके तप करने लगीं। भगवान शंकर उन पर बहुत प्रसन्न हुए और वर मांगने के लिए कहा। तब नर्मदा ने कहा–’भगवन्! तुच्छ वर मांगने से क्या लाभ? बस आपके चरणकमलों में मेरी भक्ति बनी रहे। नर्मदा की बात सुनकर भगवान शंकर बहुत प्रसन्न हो गए और बोले–’नर्मदे! तुम्हारे तट पर जितने भी प्रस्तरखण्ड (पत्थर) हैं, वे सब मेरे वर से शिवलिंगरूप हो जाएंगे। गंगा में स्नान करने पर शीघ्र ही पाप का नाश होता है, यमुना सात दिन के स्नान से और सरस्वती तीन दिन के स्नान से सब पापों का नाश करती हैं, परन्तु तुम दर्शनमात्र से सम्पूर्ण पापों का निवारण करने वाली होगी। तुमने जो नर्मदेश्वर शिवलिंग की स्थापना की है, वह पुण्य और मोक्ष देने वाला होगा।’ भगवान शंकर उसी लिंग में लीन हो गए। इतनी पवित्रता पाकर नर्मदा भी प्रसन्न हो गयीं। इसलिए कहा जाता है–‘नर्मदा का हर कंकर शंकर है।
#शंकर के सेवक..🙏🚩🚩

image
2 yrs ·Translate

यह रामायण सीरियल का वह दृश्य है जहाँ एक अदभुद घटना घटी (सत्य घटना)
1985-86 में समुद्र के किनारे पर रामायण सीरियल की शूटिंग चल रही थी... राम की भूमिका निभाने वाले अरुण गोविल एक शिला पर बैठे हुए थे... समुद्र के पास में ही एक छोटा सा गाँव था, उस गाँव के लोग कभी कभी रामायण की शूटिंग देखने आ जाते थे...
एक दिन उस गाँव में एक बच्चे को सर्प ने डस लिया, बच्चा एक दम बेहोश हो गया और उसके मुँह से सफेद झाग आने लगे...! जैसे ही उसकी माँ को पता चला, वो अपने बच्चे को गोदी में लेकर वहां दौड़ी जहाँ रामायण की शूटिंग चल रही थी... सभी रामायण की शूटिंग में व्यस्त थे... महिला रोती रोती एक दम वहाँ पहुँची और जहाँ रामजी (अरुण गोविल) बैठे हुए थे...
महिला ने बच्चे को रामजी के चरणों मे पटक दिया और जोर जोर से रोने लगी, रामजी मेरे बच्चे को बचाओ... इसे सर्प ने डस लिया है... आप भगवान हो, मेरे बच्चे को बचाओ... प्रभु मेरे बच्चे को बचाओ...
सभी शूटिंग करने वाले हैरान होकर महिला की तरफ देखते रहे, कुछ समय के लिये शूटिंग रोक दी गई... जब महिला रामजी के सामने जोर जोर से रोने लगी, तब रामजी एक दम खड़े हो गए और बच्चे को देख कर उसके ऊपर अपना हाथ फेरने लगे...
और जैसे ही रामजी ने बच्चे पर हाथ फेरा बच्चे को होश आने लगा, आँखे खोलने लगा... सभी शूटिंग करने वाले लोग और कुछ महिला के साथ आये लोग दंग रह गए और बच्चा खड़ा हो गया...!
महिला का भाव देखो कि उधर एक अभिनेता के अंदर प्रभु की शक्ति पैदा हो गयी!
यह घटना खुद अरुण गोविल ने अपने मुँह से सुनाई थी... 1995 में किसी स्टेज प्रोग्राम में उनको आमंत्रित किया, तब किसी व्यक्ति ने अरुण गोविल जी से पूछा कि रामायण की शूटिंग करते समय आपका कोई ऐसा अनुभव जो आपके लिए अविस्मरणीय रहा हो... तब उन्होंने यह घटना सभी को बताई...
जब सच्चे भाव और भावना से पत्थर में भगवान प्रकट हो सकते हैं तो व्यक्ति में क्यों नहीं... कौन कहता सच्चे मन से पुकारे तो भगवान प्रकट नहीं होते...
सियाराम मय सब जग जानी, करहु प्रणाम जोर जुग पानी...!
जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी...।।
जय श्रीराम

image