Ayurvedic Medicine
Ayurvedic Medicine

Ayurvedic Medicine

65 Members

image
2 yrs ·Translate

सनातन धर्म में सोमरस का आशय मदिरा नही है ना ही सोमरस नशीला पदार्थ है,,,
"देवता शराब नही पीते थे"
सोमरस सोम के पौधे से प्राप्त था , आज सोम का पौधा लगभग विलुप्त है ,
शराब पीने को सुरापान कहा जाता था , सुरापान असुर करते थे , ऋग्वेद में सुरापान को घृणा के तौर पर देखा गया है ,
टीवी सीरियल्स ने भगवान इंद्र को अप्सराओं से घिरा दिखाया जाता है और वो सब सोमरस पीते रहते हैं , जिसे सामान्य जनता शराब समझती है ,
सोमरस , सोम नाम की जड़ीबूटी थी जिसमे दूध और दही मिलाकर ग्रहण किया जाता था , इससे व्यक्ति बलशाली और बुद्धिमान बनता था ,
जब यज्ञ होते थे तो सबसे पहले अग्नि को आहुति सोमरस से दी जाती थी ,
ऋग्वेद में सोमरस पान के लिए अग्नि और इंद्र का सैकड़ो बार आह्वान किया गया है ,
आप जिस इंद्र को सोचकर अपने मन मे टीवी सीरियल की छवि बनाते हैं वास्तविक रूप से वैसा कुछ नही था ,
जब वेदों की रचना की गयी तो अग्नि देवता , इंद्र देवता , रुद्र देवता आदि इन्ही सब का महत्व लिखा गया है ,
मन मे वहम मत पालिये ,
आज का चरणामृत/पंचामृत सोमरस की तर्ज पर ही बनाया जाता है बस प्रकृति ने सोम जड़ीबूटी हमसे छीन ली
तो एक बात दिमाग मे बैठा लीजिये , सोमरस नशा करने की चीज नही थी ,
आपको सोमरस का गलत अर्थ पता है अगर आप उसे शराब समझते हैं।
शराब को शराब कहिए सोमरस नहीं ।
सोमरस का अपमान मत करिए , सोमरस उस समय का चरणामृत/पंचामृत था ।🚩🚩

image
2 yrs ·Translate

ARTHRITIES (साइटिका, गठिया, वातरोग) की 100% आयुर्वेदिक औषधि, कितना भी पुराना हो, कितना भी जटिल हो,
आराम मिलने लगे केवल 2 दिन 4 गोली से, अगर आप अपने दोस्त यार, परिवार में ऐसे पीड़ित लोगों को जानते हैं,
जो लकवा-साइटिका की वजह से वर्षो से बिस्तर में ही सब कुछ कर रहे हैं,
तो ये मौका आपके पास एक पुण्य कमाने का हैं।
जी हाँ, इस दुनिया मे चमत्कार और करिश्मे होते हैं,
वात रसायन वटी और साइटिका रसायन वटी समझलो इस दुनिया मे अर्थराइटिस के लिए प्रकृति का एक चमत्कार हैं।
For More Details Contact at
Sohum Wellness
Towards Healthy Lifestyle
+91 9926848484, 9691313672

image

image