The Education Cafe

Comments · 80 Views

In our blog, we've posted articles on motivational stories, inspirational tips, learning tips that help students, self-improvement tips, personality development tips, health tips, and more. You can enjoy all our articles and see the change in yourself after a while.

This is our blog to share articles about education, motivation and self improvement. We will share all the things that will help you to improve yourself in your life. We will share with you interesting facts related to history which will make you proud to be an Indian.

We created this blog The Education Cafe for all those who want to hone their skills and get some inspiration. We are writing in very simple language so that everyone can understand what we are sharing.

Here are some examples of our articles.... 

Shaheed Udham Singh - शहीद ऊधम सिंह - बीसवीं शताब्दी के आरंभ के सर्वाधिक प्रसिद्ध क्रांतिकारियों में से एक ऊधम सिंह कंबोज डायर की हत्या के लिए जाने जाते हैं। डायर ने जलियाँवाला बाग में निहत्थे लोगों पर गोलीबारी करके जो कत्ले आम करवाया था, उसके बाद ऊधम सिंह ने उससे बदला लेने का संकल्प किया था। उन्हें 'शहीदे आजम सरदार ऊधम सिंह कंबोज' के नाम से भी जाना जाता है......I

Shivaram Rajguru - शिवराम राजगुरु - भारतमाता को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए अपने प्राणों की आहुति भा देने वाले क्रांतिकारियों में राजगुरु का महत्त्वपूर्ण स्थान है। उनका जन्म 24 अगस्त, 1908 में महाराष्ट्र में पूना के खेड़ा नामक एक गाँव में हुआ था। इनका परिवार संस्कृत विद्वानों का परिवार था, इसी कारण यह परिवार राजगुरु परिवार' कहलाता था.....I

Rani Laxmibai  - रानी लक्ष्मीबाई - बलिदानों की धरती भारत में ऐसे-ऐसे वीरों ने जन्म लिया है, जिन्होंने अपने रक्त से देशप्रेम की अमिट गाथाएँ लिखीं। यहाँ की ललनाएँ भी इस कार्य में कभी किसी से पीछे नहीं रहीं। इन्हीं में से एक नाम है-झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई। उन्होंने न केवल भारत की, बल्कि विश्व की महिलाओं को गौरवान्वित किया। उनका जीवन स्वयं में वीरोचित गुणों से भरपूर, अमर देशभक्ति और बलिदान की एक अनुपम गाथा है.....।

Dr Bhimrao Ambedkar - डॉ भीमराव आंबेडकर - डॉ. भीमराव आंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को महाराष्ट्र में महार जाति के एक साधारण परिवार में हुआ। इस जाति को महाराष्ट्र में अछूत समझा जाता था और इनके साथ शेष समाज का व्यवहार ठीक वैसा ही था जैसा कि देश के दूसरे भागों में अछूत समझी जानेवाली जातियों के साथ होता था। इनके पिता का नाम श्री रामजीराव और माता का नाम श्रीमती भीमाबाई था.....।

Sister Nivedita - भगिनी निवेदिता - निवेदिता का जन्म 28 अक्तूबर, 1867 को उत्तरी आयरलैंड के नगर टायरान में हुआ था। उनके पूर्वज मूलत: स्कॉटलैंड के निवासी थे और वहाँ से आयरलैंड में आकर बस गए थे। पिता मिस्टर सैमुअल नोबल एवं माता लेडी हेमिल्टन विवाहोपरांत अनेक वर्षों तक निस्संतान रहे। उन्होंने संतान की कामना करते हुए ईश्वर से यह मनौती मानी थी कि संतान होने पर वे उसे प्रभु की सेवा में समर्पित कर देंगे। माता-पिता ने उनका नाम मारग्रेट एलिजाबेथ नोबल रखा था......।

Birsa Munda - बिरसा मुंडा - झारखंड राज्य में पाई जानेवाली मुंडा जनजातियों में बिरसा भगवान्' के नाम से लोकप्रिय बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर, 1875 को राँची जिले के उलिहातु नामक स्थान पर हुआ था। उनका जन्म बृहस्पतिवार को हुआ था, इसलिए मुंडा जनजातियों की परंपरा के अनुसार उनका नाम 'बिरसा मुंडा' रखा गया। बिरसा मुंडा के पिता का नाम सुगना मुंडा तथा माता का नाम करनी मुंडा था......।

Bhagat Singh - भगत सिंह - अमर शहीद सरदार भगतसिंह पंजाब के उन शूरवीरो में से एक हैं, जिन्होंने देश की स्वतंत्रता- वेदी पर प्राणों की आहुति दी। उन्होंने अपनी भारतमाता को स्वतंत्र करवाने के लिए जो निर्भयतापूर्वक बलिदान दिया, उसका परिणाम यह हुआ कि तत्कालीन नवयुवकों में एक नवीन चेतना, स्फूर्ति एवं उत्साह भर गया। अपने असीम देश-प्रेम एवं बलिदान से उन्होंने अपने समकालीन भारतीय नव युवकों के समक्ष अतीव निराशा को तिलांजलि देकर राष्ट्र-सम्मान का मार्ग प्रशस्त किया......।

In our blog, we've posted articles on motivational stories, inspirational tips, learning tips that help students, self-improvement tips, personality development tips, health tips, and more. You can enjoy all our articles and see the change in yourself after a while.

Comments